Monsoon Health Tips in Hindi मानसून हेल्थ टिप्स

Monsoon Health Tips in HindiMonsoon Health Tips in Hindi मानसून हेल्थ टिप्स


Monsoon Health Tips in Hindi मानसून हेल्थ टिप्स

          जब भी हम चिलचिलाती धूप और भीषण गर्मी से परेशान हो जाते हैं तो उसके बाद एक बेहतरीन और खुशमिजाज मौसम बारिश का आता है जो बहुत सुहावना होता है और अपने साथ ढेरों खुशियां भी लाता है। मौसम में चारों तरफ पानी की हल्की और तेज फुहारों के साथ साथ ,कभी तेज मूसलाधार बारिश कई कई दिनों तक,तेज चलती ठंडी-ठंडी हवाएं, कभी बादल साफ तो कभी बादलों में इंद्रधनुष आदि कितने अद्भुत नजारे हमारे सामने आते हैं कि वे हमारे मिजाज को बहुत अच्छा कर देते हैं वर्षा ऋतु में हमारा तन और मन दोनों प्रफुल्लित होकर मौसम का आनंद लेना चाहते हैं लेकिन गर्मी के मौसम में हमारा शरीर दुर्बल भी हो जाता है तो हमें इस मौसम में अपने शरीर को स्वास्थ्य के लिए और ताकत के लिए इस मौसम के परिवर्तन के अनुसार तैयार करना पड़ता है। इसके लिए कुछ मानसून हेल्थ टिप्स ( Monsoon Health Tips in Hindi )की आवश्यकता होती है 


बारिश के मौसम में कैसे रहें स्वस्थ ? ( how can be healthy in rainy season ? )

बारिश के मौसम में आयुर्वेद के अनुसार शरीर में पित्त संचय वह वायु का प्रकोप होता है जिसके कारण वात -पित्त जनित  कई रोग उत्पन्न होते हैं अतः बारिश के दिनों में हम सभी को भूख जगाने वाली सुपाच्य अर्थात   जल्दी पचने वाली,वात और पित्त का नाश करने वाली आहार  प्रणाली को अपनाना चाहिए।

   दोस्तों,इस मस्तानी मौसम में हमारा मन खुशियां चाहता है तो उसके लिए हमें अपनी दिनचर्या में कुछ इस प्रकार से परिवर्तन लाने पड़ते हैं जिससे  हम अपने आप को और अपने परिवार को भी स्वस्थ बनाए रख सकते हैं मॉनसून में फिट रहने के लिए यह हेल्दी टिप्स हमें अपनाना चाहिए क्योंकि सभी लोग कहते हैं कि बरसात के मौसम में स्वास्थ्य सावधानियों का पालन करने पर ही हम बरसात के मौसम में होने वाली बीमारियों से बच सकते हैं तो आइए देखते हैं कुछ मॉनसून हेल्थ टिप्स (Monsoon Health Tips in Hindi )


  • हमें बरसात के मौसम आते ही उबला हुआ पानी पीना शुरू कर देना चाहिए ,भले ही हम अभी तक R.O. / Filter का पानी पी रहे हों  तो भी इस मौसम में उबला हुआ और गुनगुना पानी, हमें बहुत सारी बीमारियों से बचा सकता है।

  • बारिश के मौसम में हमें स्ट्रीट फूड से दूर रहना चाहिए और घर में बने सूप का भी प्रयोग अपने आहार में बढ़ा देना चाहिए। गरम-गरम सूप पीने से हमारी पाचन क्रिया को बल मिलता है और हमारा शरीर  भोजन को ज्यादा आसानी से पचाने में सक्षम हो जाते हैं।

  • इस मौसम में हमें कभी भी ठंडा या बासी भोजन नहीं करना चाहिए। भोजन जब भी करें तो गरम गरम करें इसके साथ में ही सब्जियों और फलों का सेवन अधिक से अधिक करें ,लेकिन यह सावधानी रखें कि हरे पत्तों  वाली सब्जियों में कई कीटाणु रहते हैं इसलिए उनको अच्छे से धोकर और उबालकर ही प्रयोग करें।

  • बारिश के मौसम में कई बीमारियां ( Diseases ) जैसे मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया और अभी के समय में कोरोनावायरस आई फ्लू एलर्जी इंफेक्शन, खांसी, वायरल बुखार, जॉन्डिस, दस्त, फ्लू , इनफ्लुएंजा आदि से बचने के लिए हमें गरम मसालों जैसे काली मिर्च, अदरक, लहसुन, हल्दी, दालचीनी, अजवाइन आदि का अपने खाने में अधिक प्रयोग करना चाहिए। बारिश में सबसे अधिक हमें अपने खान-पान पर ध्यान देना चाहिए हमको इस मौसम में जौ, चना और गेहूं को 3:1:10 में  मिलाकर आटा बनवाना चाहिए और अपने भोजन में प्रयोग करना चाहिए।

  • इन मॉनसून हेल्थ टिप्स के द्वारा बारिश के मौसम में जरूर करें यह 5 काम ताकि इम्यूनिटी रहे मजबूत और रोगों से रहें दूर इनको करने से बरसात के मौसम में होने वाली बीमारियां हमसे दूर रहेंगी  और हम भी उन से बचे रहेंगे ।

बरसात के मौसम में स्वास्थ्य सावधानियां : जानना है जरूरी।

( How can we take care of our health in rainy season ? ) 


  • 1.    सुबह खाली पेट एक गिलास गुनगुने पानी में आंवला रस, शहद और नींबू के रस के साथ खाली पेट में प्रयोग करें यह हमारे शरीर में विटामिन सी की आपूर्ति करेगा और हमारी इम्युनिटी बढ़ाएगा  ।

  • 2.    सुबह-सुबह बाहर अवश्य घूमने के लिए जाएं और हो सके तो 15 से 20 मिनट हरी-हरी घास पर नंगे पैर टहलें, इससे हमें शारीरिक स्वास्थ्य के अलावा आंखों की रोशनी बढ़ाने में भी फायदा होता है।

  • 3.     दिन में तीन-चार बार गुनगुना या गर्म  पानी पियें । यदि हो सके तो आजकल बाजार में कोरोना वायरस ( COVID-19 ) से बचाव के लिए  जो क्वाथ या काढा आ रहा है, उसको दिन में दो बार अवश्य लें, इससे भी हमारी इम्यूनिटी बढ़ेगी और कोई  बीमारी हम पर असर नहीं कर पाएगी।

  • 4.    सर्दी-खांसी, जुकाम-बुखार आदि से बचने के लिए अदरक व तुलसी के रस में शहद मिलाकर लेने से आराम मिलता है, इसको भी प्रयोग में ला सकते हैं। आपको इन चीजों का नियमित प्रयोग एलोपैथी और एंटीबायोटिक से बचा सकता है।

  • 5.     यदि भूख कम लगती हो तो भोजन के पूर्व हमें अदरक के छोटे-छोटे टुकड़ों के ऊपर नींबू रस निचोड़ कर और सेंधा नमक मिलाकर भोजन के पहले खाने से बहुत अधिक लाभ होगा साथ ही साथ यह प्रयोग हमें भोजन पचाने में भी कारगर साबित होगा तो इसका भी प्रयोग हम नियमित कर सकते हैं।

  • 6.     रात में सोते समय तांबे के किसी बर्तन या जग में पानी भरकर रखें और सुबह उठकर आधा से 1 लीटर पानी बासी मुंह पीने से कब्ज आदि बीमारियों में बहुत फायदा मिलता है। यदि कब्ज की शिकायत हो तो रात में सोने के पहले एक गिलास गुनगुने पानी के साथ दो बूंद तुलसी रस और त्रिफला चूर्ण लेने से इसमें चमत्कारिक लाभ होता है जो तुरंत आपकी सेहत को अच्छी बनाता है।

  • 7.     स्वयं के शरीर की साफ-सफाई रखें।  साफ-सुथरे और सूखे  वस्त्रों को पहनें।  उबला हुआ पानी पीना, पर्याप्त नींद लेना, भीगने पर नहाना, प्रातः काल नियमित एक्सरसाइज करना, हाथों को बार-बार  धोते रहना और सैनिटाइजर का प्रयोग करना आदि   हमें अधिक  हाइजीन बनाने में मदद करता है जिसके कारण हमें कोई रोग घेर नहीं पाता है।

  • 8.       बरसात के मौसम में हमारे शरीर का मेटाबोलिज्म (Metabolism) कम हो जाता है इसलिए हमें दिन में नहीं सोना चाहिए । हमें रात्रि में देर तक नहीं जागना चाहिए। बहुत ज्यादा व्यायाम और मेहनत नहीं करना चाहिए। नदी-झरनों आदि में नहाना तथा बारिश में भीगना भी हमें नुकसान पहुंचा सकता है। कभी भी गीले कपड़े हो जाएं तो उनको तुरंत बदल ले।

  • 9.    घर पर नहाते समय सप्ताह में एक बार उबटन का प्रयोग अवश्य करें और दैनिक स्नान करते समय तेल कि मालिश अवश्य करें। इससे त्वचा संबंधित रोगों और फंगल इंफेक्शन से बचा जा सकता है

  • 10.                       घर की साफ सफाई का बहुत ध्यान रखें ,अपने घर को साफ-सफाई के द्वारा अधिक हाइजीन बनाकर रखें। कीटाणु नाशक का प्रयोग करें, मच्छरों से बचने के लिए घर के आस-पास कहीं भी पानी का भराव ना होने दें। सूखी नीम की पत्तियों को हम घर में यदि जलाते हैं तो उसके धुएं से ना सिर्फ घर की नमी दूर होती है बल्कि मच्छर भी भाग जाते हैं। यदि हो सके तो हमें घर में शुद्ध हवन सामग्री से अग्निहोत्र करना चाहिए, जिससे कि घर का वातावरण पवित्र होता है। वर्षा ऋतु में यह अति आवश्यक और बहुत सहायक है। घर में सीपेज या नमी की समस्या अधिकतर बरसात में हमें परेशान करती है और उसी के कारण कीटाणु हमारे घर में पैदा हो जाते हैं जिसके लिए हमें फिनायल आदि का प्रयोग कर कीटाणुओं   को खत्म करके रखना चाहिए। अपने घर को साफ सफाई के द्वारा अधिक हाइजीन बनाकर रखें। कीटाणु नाशक का प्रयोग करें।

Do's and don'ts of diet in rainy season 

बरसात में क्या खाएं  which food is good in monsoon?

  •  प्रातः काल में एक गिलास गुनगुने पानी में शहद नींबू का रस मिलाकर खाली पेट अवश्य लेना चाहिए। 

  • बरसात में संक्रामक बीमारियों से बचाने के लिए लहसुन, नींबू, पुदीना, अदरक, हरा धनिया, सौंठ,मेथीदाना ,अजवाइन ,मेथी, जीरा,हींग ,काली मिर्च आदि गरम मसाले जो भूख बढ़ाने वाले भी होते हैं इनको अपने भोजन में अपनाएं। 

  • सब्जियों में खीरा, लौकी, गिलकी, परवल,टिंडा, शलजम, भिंडी ,कोमल मूली,तोरई, सहजन, कद्दू, बैंगनआदि का प्रयोग करें और हो सके तो हरी पत्ते वाली सब्जियों को प्रयोग ना करें।

  • हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने वाले प्रमुख फल जो एंटी - ऑक्सीडेंट ( Antioxident ) है - जैसे जामुन ,पपीता ,आम ,अनार,लीची, जामुन, चेरी, आड़ू आदि का भी अवश्य प्रयोग करना चाहिए। 

  • यदि संभव हो तो दोपहर के भोजन के बाद ताजी छाछ में काली मिर्च, सेंधा नमक, जीरा, धनिया, पुदीना आदि मिलाकर अवश्य पिएं  यह हमारे भोजन को पचाने में बहुत सहायक होगा। 

  • साथ ही सप्ताह में एक  दिन उपवास और हल्का भोजन भी इस मौसम में हितकारी होता है। कभी भी देर रात भोजन की आदत ना डालें।


बरसात में क्या ना खाएं  Which food is bad in monsoon?

 

  • बरसात में दही, जलेबी, डबल रोटी, बिस्किट, बेकरी की चीजें, उड़द और मैदा से से बनी हुई चीजें तथा ठंडे पेय पदार्थ का प्रयोग ना करें तो यही हमारे स्वास्थ्य के लिए हितकारी है 

  • पहले हमने बताया ही है की हरी पत्तेदार सब्जियां भी वर्जित है।

  • मिठाई, तले हुए पदार्थ, आलू, सेम, अरबी, राजमा, अरहर, मक्का, चना, मटर, गोभी, सिंघाड़ा, मशहूर कटहल, आलू , ककड़ी, तरबूज आदिस्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होता है।

  • सूखे मेवे प्रयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इनके पाचन में देर लगती है।


  • दोस्तों इस मौसम में हमें गरम-गरम और तले हुए पकोड़े खाने का बहुत मन होता है किंतु जितना हो सके तली हुई चीजों से भी बचना चाहिए ।यही  हमारे स्वास्थ्य के लिए हितकारी है।

  • अभी इस समय हमको कोरोना (COVID-19)से बचने के लिए और अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता ( Immunity ) को मजबूत बनाना है और साथ ही वर्षा ऋतु से हुए परिवर्तन से भी अपने शरीर को मजबूत बनाना है तो इसके लिए हमको नियमित तौर पर अपने भोजन में कुछ पोषक आहार भी लेना चाहिए।


         वर्षा ऋतु को चौमासा भी कहा जाता है, आयुर्वेद के अनुसार इस ऋतु में हमारे स्वास्थ्य के लिए कुछ नियम बताए गए हैं,  नका पालन करने से हम स्वस्थ और प्रसन्न रह सकते हैं।

           इस प्रकार कुछ नियमों ( Simple health tips for monsoon ) का पालन करने ,अपने खान-पान को संयमित करने और उचित आहार-विहार के साथ हम वर्षा ऋतु का पूरा आनंद उठा सकते हैं स्वस्थ शरीर और स्वस्थ मन के साथ दूसरों को भी प्रसन्न रख सकते हैं। 

दोस्तों इस प्रकार हमने आपके सामने वर्षा ऋतु में कुछ सावधानियों का वर्णन किया है इनके प्रयोग से हम वर्षा ऋतु का भरपूर आनंद ले सकते हैंआपको यह पोस्ट कैसी लगी, नीचे कमेंट बॉक्स में अपना कमेंट अवश्य अवश्य लिखें , अपने दोस्तों के साथ शेयर करें एवं आपके अनुसार कुछ सुधार की आवश्यकता हो तो वह भी लिख सकते हैं। आपके कमेंट हमारे लिए अति महत्वपूर्ण हैं।

आपका दोस्त राघवेंद्र


Previous
Next Post »

1 टिप्पणियाँ:

Click here for टिप्पणियाँ
28 जुलाई 2020 को 4:12 pm ×

महत्वपूर्ण जानकारी

Congrats bro Suman chouhan you got PERTAMAX...! hehehehe...
Reply
avatar